VASTU IN OFFICE by Swapnil Saundarya ezine !

SWAPNIL   SAUNDARYA   e-zine

Presents
9- 5 Spaces
VASTU IN OFFICE  




( From the Desk of Swapnil Saundarya ezine  )
Published by : Aten Publishing House


Launched in June 2013, Swapnil Saundarya ezine has been the first exclusive lifestyle ezine from India available in Hindi language ( Except Guest Articles ) updated bi- monthly . We at Swapnil Saundarya ezine , endeavor to keep our readership in touch with all the areas of fashion , Beauty, Health and Fitness mantras, home decor, history recalls, Literature, Lifestyle, Society, Religion and many more. Swapnil Saundarya ezine encourages its readership to make their life just like their Dream World . 


  

Founder - Editor  
Rishabh Shukla  

Managing Editor   

Suman Tripathi 

Chief  Writer   
Swapnil Shukla 
Art Director  
Amit Chauhan  
 
Marketing Head  
Vipul Bajpai
 



                   
                   VASTU  IN  OFFICE ........


वास्तु का हमारे जीवन में बहुत महत्व है. हमें भवन निर्माण, ऑफिस या कोई कारखाना खोलना हो तो हमें वास्तु के अनुसार ही बनाना चाहिए. इससे घर में सुख-शांति बनी रहती है. यदि आपको अपने ऑफिस का निर्माण करना हो तो आप वास्तु टिप्स के अनुसार अपने ऑफिस को बनाये इससे आपका व्‍यवसाय अच्छा चल सकता है. तो आइये जानते हैं कैसे करें वास्तु के अनुसार अपने ऑफिस का निर्माण.







ऑफिस के लिए वास्तु टिप्स : 
आप का ऑफिस यानी कार्यालय आपके पेशे या व्यापार के लिए सोचने, काम के क्रियान्वन, व्यापार में वृद्धि और धन सृजन की जगह है | इस स्थान पर आप और ऑफिस में कम करने वाले आपके अन्य सहयोगी अपनी आजीविका कमाने, अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने और पेशे या व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए अपने उत्पादक समय का एक बड़ा हिस्सा व्यतीत करते हैं| आपके कार्यालय का आकार और डिजाइन कर्मचारियों को सकारात्मक ऊर्जा देने वाला और कार्य में समृद्धि देने वाला होना चाहिए |

कार्यालय का प्रवेश द्वार बिल्‍कुल सीधा होना चाहिए – जब ऑफिस बनाये तो इस बात का ध्यान रखें की ऑफिस के अंदर आने वाले दरवाजा बिल्‍कुल सीधा होना चाहिये. ऑफिस का एंट्रेंस बिल्‍कुल साफ और सीधा रखें. इस दरवाजे में ऐसी चीज़ ना रखी हो जो आपको सीधे ऑफिस में घुसने से रोक रही हो.

ऑफिस का सेंटर हमेशा खाली रखें – वास्तु के अनुसार ऑफिस स्‍पेस या काम करने की जगह का सेंटर खाली रखना चाहिए. यदि आप अपने ऑफिस में क्‍यूबिकल में बैठते हैं तो, इसके सेंटर में गोला बनाएं और उसमें मौजूद कोई भी चीज़ का प्रयोग ना करें।

ऑफिस के रिसेप्‍शन की लोकेशन – यदि आप ऑफिस का निर्माण करवा रहे हैं तो आप इसको उत्तर-पूर्वी भाग में बनाये. इसके अलावा जब रिसेप्‍शनिस्‍ट कस्‍टमर या क्‍लायंट से बात करे तो, उसका मुख उत्तरी या पूर्वी दिशा में होना चाहिये.ऐसा करने से व्यवसाय के क्षेत्र में कई नए अवसर प्राप्‍त होते हैं.

ऑफिस में बहता हुआ पानी है फायदेमंद – वास्तु के अनुसार ऑफिस में बहता हुआ पानी बहुत ही शुभ माना जाता है. इसलिए आप अपने ऑफिस के अंदर फाउंटेन आदि का प्रयोग कर सकते हैं. इस फाउंटेन को आप ऑफिस के उत्तरी या पूर्वी कोने में रखें. जहां ये अधिक से अधिक लोगों का ध्‍यान अपनी ओर खींचे. इसके अलावा यदि आप चाहें तो ब्‍लैकफिश और 9 गोल्‍डफिश वाला एक्‍वेरियम भी अपने ऑफिस में रख सकते हैं.

वास्तु अनुसार अकाउंट्स डिपार्टमेंट – वास्तु अनुसार ऑफिस का अकाउंट्स डिपार्टमेंट दक्षिण पूर्वी भाग में होना चाहिए. यह शुभ माना जाता है. इस दिशा से समृद्धि प्राक्प्त होती है तथा अधिक रिर्टन को आकर्षित करता है.






आपके कार्यालय के लिए बुनियादी वास्तु सुझाव  :

कार्यालय की इमारत के लिए प्लॉट चौकोर या आयताकार होना चाहिए. अनियमित आकार के भूखंडों से बचा जाना चाहिए|
   
ऑफिस के मुखिया या मालिक के बैठने का स्थान (The corner seat for the boss ),  दक्षिण पश्चिम कोने में होना चाहिए और बैठते समय उत्तर की तरफ का सामना करना चाहिए|
   
अन्य वरिष्ठ सदस्यों को दक्षिण या पश्चिम में बैठना वास्तु सम्मत हें जब वे दक्षिण में बैठे हो तो उत्तर का सामना करना चाहिए और पश्चिम में बैठते समय पूर्व का सामना करना चाहिए|
   
पूर्व और उत्तरी पक्षों की जगह जूनियर स्तर के कर्मचारियों के लिए हैं |


 



विभागों के लिए उपयुक्त जगह :

स्वागत कक्ष उत्तर पूर्व में उपयुक्त होगा और आगंतुकों से मिलने के लिए कक्ष उत्तर पूर्व या उत्तर पश्चिम दिशा में बनाया जा सकता है|

कार्यालय में जल निकायों के लिए उपयुक्त स्थान उत्तर पूर्व या पूर्व की ओर है, लेकिन छत पर रखी  पानी की टंकीया पश्चिम या दक्षिण पश्चिम में होनी चाहिए|
   
वित्त विभाग के लिए दक्षिण पूर्व दिशा और बिक्री एवं मार्केटिंग की टीम के लिए कार्यालय में उत्तर पश्चिमी दिशा उत्तम हैं|
  
कैफेटेरिया / कैंटीन दक्षिण पूर्व या उत्तर पश्चिम की ओर में होना चाहिए|
   
शौचालय के लिए पश्चिम और उत्तर पश्चिम दिशा उपयुक्त हैं|
   
छत की बीम के नीचे किसी भी बैठने की व्यवस्था नहीं करनी चाहिए|
   
कार्यालय के केंद्रीय क्षेत्र को खाली रखा जाना चाहिए |


............. बने रहिये स्वप्निल सौंदर्य ई -ज़ीन के साथ और बनाइये अपनी ज़िंदगी को अपने सपनों की दुनिया.  


- ऋषभ शुक्ला ( Rishabh Shukla )
  संस्थापक -संपादक ( Founder-Editor )











 















SWAPNIL SAUNDARYA LABEL

Make your Life just like your Dream World !
copyright©2013-Present. Rishabh Shukla. All rights reserved


Owned and published by Rishabh Shukla , at Swapnil Saundarya Label . All rights reserved . No part of this publication may be reproduced , stored or transmitted in any form without prior consent of the copyright owner.

We welcome unsolicited material but do not take resposibility for the same. Letters or e-mails are welcome but subject to editing . The editors do their best to verify the information published but do not take responsibility for the absolute accuracy of the information.Rishabh Shukla ( Editor-in-chief ) reserves the right to use the information published herein in any manner whatsoever.

No part of this publication may be reproduced,copied, adapted, abridged or translated , stored in any retreval system , computer sustem , photographic or other system or transmitted in any form o by any means without a prior written permission of the copyright holder . Any breach will entail legal action and prosecution without further notice. 

Copyright infringement is never intended, if I published some of your work, and you feel I didn't credited properly, or you want me to remove it, please let me know and I'll do it immediately.


Comments

Popular posts from this blog

वास्तु शास्त्र के टिप्स, कर दें घर को फिट

Bathroom Design

Interior Design Journalism - An Introduction