Dream Homes ~ Part - II ' BEDROOMS SPECIAL ' || written by Rishabh Shukla

SWAPNIL   SAUNDARYA   e-zine

Presents


Dream Homes ~ Part - II
BEDROOMS SPECIAL 

( From the Desk of Swapnil Saundarya ezine  )
Published by : Aten Publishing House
 
 
 


Dream Homes ~ Part - II
BEDROOMS SPECIAL 

LOW BUDGET HOME DECOR TIPS

र की रौनक बढ़ाने और दीवारों को सजाने के लिए अगर आप किसी बेहतरीन आइडिया की तलाश में हैं और बजट भी ढीला नहीं करना चाहते हैं तो कुछ उपाय आपकी मदद कर सकते हैं। इन दिनों घरों की सजावट में वॉल डेको‌रेशन को काफी तवज्जो दी जाती है। दीवार पर कोई थीम ड‌िजाइन आपके कमरे को शाही लुक देगी। आप घर की ही चीजों और थोड़े सा द‌िमाग लगाकर आप अपने घर की दीवारों को बेहद स्टाइलिश बना सकते हैं।

कपड़े का एक टुकड़ा
स्कार्फ, चादर या स्टोल, किसी अच्छे प्रिंट वाले क‌िसी एक कपड़े से भी आप दीवार को डिजाइनर लुक दे सकते हैं। इसके लिए बड़े प्रिंट अच्छा विकल्प हैं।
ध्यान रखें कपड़े का बेस रंग दीवार के रंग जैसा ही होना चाहिए।

फ्रेम के साथ प्रयोग
पुराने फ्रेम से दीवार सजाने के ल‌िए कोई महंगी पेंटिंग खरीदने के बजाय आप प्रिंटेड वॉलपेपर, हाथ से बनी पेंटिंग, पैच वर्क जैसा कोई भी प्रयोग कर सकते हैं।
लिविंग रूम व स्टडी रूम में इस तरह का प्रयोग काफी फबेगा।

बड़े हॉल या बारांडे के ल‌िए
बड़े हॉल या बारांडे को रिच लुक देने के लिए आपकी कोई खूबसूरत साड़ी या कढ़ाईदार कपड़ा काम आ सकता है। कार्डबोर्ड के चौकोर टुकड़े दीवार पर लगाकर आप अपने कमरे को शाही लुक दे सकते हैं।

कट वर्क का इस्तेमाल
एक साइज के कई गोल पैच, या एक जैसे आकार के पैच को बड़े से कार्डबोर्ड पर चिपकाएं। इसे आप पलंग के ऊपर बेडरूम में लगाकर बेडरूम को ड‌िजाइनर बना सकते हैं।

कुछ हटके करें
आपकी खूबसूरती कर्सिव हैंड राइटिंग भी इस मामले में मददगार हो सकती है। किसी भी दीवार को चुनें और इस पर आजमाने में क्या हर्ज है। 




ROMANTIC INTERIORS !!!!!!!

शादी के बाद किसी भी जोड़े के लिए पहले रात यानी सुहागरात कितनी खास होती है यह कहने की बात नहीं है। शादी के दौरान होने वाली तमाम प्लानिगं, शॉपिंग और शादी से जुड़े काम के दौरान न केवल परिवार उलझा रहता है बल्कि दूल्हा-दुल्हन भी खासा मशक्कत करते हैं। ऐसे में शादी के बाद दूल्हा-दुल्हन की पहली रात को खास बनाने के लिए कमरे की सजावट भी खास रखनी जरूरी है। तो जोड़े के भाई, बहन या दोस्त, जोड़े का कमरा सजाते वक्त इन उपायों को अपनाएं।







बिस्तर की सजावट

शादी के बाद पहली रात में कमरा खास लगे इसके लिए सजावट की शुरुआत बिस्तर को खास बनाने से कर सकते हैं। आप बिस्तर को फूलों से सजा सकते हैं जिसमें फूलों के बूके, फूलों की झालर के साथ वाइन की बोतल का सरप्राइज भी प्लान कर सकते हैं। अगर आप कुछ अलग करना चाहते हैं तो फूलों की झालर के बजाय नेट के पर्दे और साटन की बेडशीट से सजावट कर सकते हैं।जितना जरूरी बिस्तर सजाना है, उतना ही अहम यह भी है कि सजावट की कीमत आराम को न चुकानी पड़े। साटन या सिल्क बेडशीट, कुशन आदि की मदद से आप पलंग की शोभा और बढ़ा सकते हैं।


रोमांस का टच दें

कमरे की सजावट के दौरान कुछ अलग करना चाहते हैं तो किसी खास थीम के अनुसार भी कमरा सदा सकते हैं। चूंक‌ि यह किसी भी जोड़े के लिए बेहद रोमांटिक क्षण है इसलिए आप थीम रोमांटिक रखकर ही सजावट करें। इसके लिए कमरे की दीवार का रंग भी बहुत मायने रखता है। जोड़े के लिए सुहागरात का कमरा तैयार करते वक्त कोशिश करें कि दीवार के लिए गुलाबी, क्रीम या पेस्टल रंग चुनें। लाल या बैंगनी रंग की एक दीवार भी कमरे के लुक में चार चांद लगा सकती है। दीवारें के रंग के मुताब‌िक ही पर्दे और बेडशीट का चयन करें।

करें एक्स्ट्रा एफर्ट

मौका अगर खास है तो कोशिश में कमी न छोड़ें। छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देना भी जरूरी है। जैसे सुहागरात के कमरे की लाइटिंग बहुत ब्राइट न हो। मॉड्यूलर लाइट्स हैं कमरे में तो इससे बेहतर कुछ भी नहीं। सजाते वक्त कमरे में अरोमा कैंडल्स भी लगाएं जिससे माहौल की रूमानियत बरकरार रहे। सामान्य कुशन की जगह हार्ट शेप कुशन जैसी एसेसरीज का भी इस्तेमाल आप सजावट में कर सकते हैं। फूलों से सजावट करते वक्त ध्यान रखें कि जोड़े को किसी विशेष फूल से एलर्जी तो नहीं है।







वास्‍तु के अनुसार बेडरूम :  VASTU  IN  BEDROOM !!!!!!!

-शयन कक्ष की छत ढालदार नहीं होनी चाहिए। यदि छत ढालदार हो तो कम उॅचाई वाले भाग में बेड डालना चाहिए। ध्यान रखें कि कडि़या या बीम के नीचे अपना सोने का स्थान न बनायें।

- शयन कक्ष में किसी भी प्रकार का इलेक्ट्रानिक उपकरण नहीं रखना चाहिए।

- शयन कक्ष की दीवारों का रंग हल्का पीला या गुलाबी रंग होना चाहिए जिससे आपसी प्रेम में इजाफा होता है।

- शयन कक्ष में दर्पण न लगायें। यह आपसी सम्बन्धों में दरार पैदा करता है। यदि जगह की कमी के कारण दर्पण रखना भी पड़े तो, उसे ढककर रखें और प्रयोग के समय ही उसे खोलें। दर्पण यदि किसी अलमारी के अन्दर रखा जाय तो, उत्तम रहेगा।

- घर में सीधा प्रवेश शयन कक्ष के मुख्यद्वार से नहीं होना चाहिए। बीच में पार्टीशन या कोई जाली अवश्य होनी चाहिए। मुख्यद्वार से सीधा शयनकक्ष में प्रवेश होने से गृहस्वामी को अदालत के चक्कर काटने पड़ सकते है।

- शयन कक्ष में ड्रेसिंग टेबल या बड़ा दर्पण सिर के सामने नहीं होना चाहिए। क्योंकि ऐसा होने से जातक अकारण अनेक प्रकार के संकटो घिरा रहता है। यदि जगह की कमी है, तो दाहिने या बांयी ओर रखना चाहिए।

- शयनकक्ष में पानी का बड़ा बर्तन या मछली घर भी रखना हितकर नहीं होता है। उपरोक्त सावधानियों से आप सुख व भरपूर नींद प्राप्त कर सकते है।






बेडरूम आपका वह स्थान जहां आप  अपना सबसे ज्यादा समय बिताते हें| पुरे दिन काम करने के बाद यह स्थान आपके शरीर और दिमाग को आराम और शांति प्रदान करता है| यहाँ वास्तु शास्त्र के अनुसार शयन कक्ष के स्थान और चीजों के रखरखाव  के लिए कुछ सुझाव दिए गए हैं |

बेड रूम के लिए उपयुक्त दिशाये:

- मुख्य  शयन कक्ष, जिसे मास्टर बेडरूम भी कहा जाता हें, घर के दक्षिण पश्चिम या उत्तर पश्चिम की ओर होना चाहिए | अगर घर में एक मकान की ऊपरी मंजिल है तो मास्टर ऊपरी मंजिल मंजिल के दक्षिण पश्चिम कोने में होना चाहिए |

- बच्चों का कमरा उत्तर – पश्चिम या पश्चिम में होना चाहिए और मेहमानों के लिए कमरा (गेस्ट बेड रूम) उत्तर पश्चिम या उत्तर – पूर्व की ओर होना चाहिए|पूर्व दिशा में बने कमरा  का अविवाहित बच्चों या मेहमानों के सोने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है |

- उत्तर – पूर्व दिशा में देवी – देवताओं का स्थान है  इसलिए इस दिशा में कोई बेडरूम नहीं  होना चाहिए | उत्तर – पूर्व में  बेडरूम होने से  धन की हानि , काम में रुकावट और बच्चों की शादी में देरी हो सकती  है |

- दक्षिण – पश्चिम का बेडरूम  स्थिरता और महत्वपूर्ण मुद्दों को हिम्मत से हल करने में सहायता प्रदान करता है |

- दक्षिण – पूर्व में शयन कक्ष अनिद्रा , चिंता , और वैवाहिक समस्याओं को जन्म देता है | दक्षिण पूर्व दिशा अग्नि कोण हें जो मुखरता और आक्रामक रवैये  से संबंधित  है | शर्मीले  और डरपोक बच्चे इस कमरे का उपयोग करें और विश्वास प्राप्त कर सकते हैं | आक्रामक और क्रोधी स्वभाव के  जो लोग है इस कमरे में ना रहे|

- उत्तर – पश्चिम दिशा वायु द्वारा शासित है और आवागमन से  संबंधित  है | इसे विवाह योग्य लड़किया के शयन कक्ष के लिए एक अच्छा माना गया है | यह मेहमानों के शयन कक्ष लिए भी एक अच्छा स्थान है|

- शयन कक्ष घर के मध्य भाग में नहीं होना चाहिए, घर के मध्य भाग को वास्तु में बर्हमस्थान  कहा जाता है | यह बहुत  सारी ऊर्जा को आकर्षित करता  है जो कि  आराम और नींद के लिए लिए बने शयन कक्ष के लिए उपयुक्त नहीं है |



 



बेड रूम में रखे सामान के लिए उपयुक स्थान:

- सोते समय एक अच्छी नींद के  नंद के लिए सिर पूर्व या दक्षिण की ओर होना  चाहिए |

- वास्तु के सिद्धांतों के अनुसार, पढ़ने और लिखने की  जगह पूर्व या शयन कक्ष के पश्चिम की ओर होनी चाहिए  | जबकि पढाई करते समय मुख पूर्व दिशा में होना चाहिए |

- ड्रेसिंग टेबल के साथ दर्पण पूर्व या उत्तर की दीवारों पर तय की जानी चाहिए |

- अलमारी शयन कक्ष के उत्तर पश्चिमी या दक्षिण की ओर होना चाहिए | टीवी, हीटर और एयर कंडीशनर को दक्षिण पूर्वी के कोने में स्थित होना चाहिए |

- बेड रूम के साथ लगता बाथरूम, कमरे के पश्चिम या उत्तर में होना चाहिए |

दक्षिण – पश्चिम , पश्चिम कोना  कभी खाली नहीं रखा जाना चाहिए|

यदि आप कोई सेफ या तिजोरी, बेड रूम में रखना चाहे तो उसे दक्षिण कि दिवार के साथ रख सकते हें, खुलते समय उसका मुंह धन की दिशा, उत्तर की तरफ खुलना चाहिए|




............. बने रहिये स्वप्निल सौंदर्य ई -ज़ीन के साथ और बनाइये अपनी ज़िंदगी को अपने सपनों की दुनिया.  


- ऋषभ शुक्ला ( Rishabh Shukla )
  संस्थापक -संपादक ( Founder-Editor )


 
 
 
Launched in June 2013, Swapnil Saundarya ezine has been the first exclusive lifestyle ezine from India available in Hindi language ( Except Guest Articles ) updated bi- monthly . We at Swapnil Saundarya ezine , endeavor to keep our readership in touch with all the areas of fashion , Beauty, Health and Fitness mantras, home decor, history recalls, Literature, Lifestyle, Society, Religion and many more. Swapnil Saundarya ezine encourages its readership to make their life just like their Dream World .


 
 
Follow us on Instagram 
 
*****************
 

Comments

Popular posts from this blog

वास्तु शास्त्र के टिप्स, कर दें घर को फिट

Interior Design Journalism - An Introduction

Bathroom Design