एक आशियाने की ओर



एक आशियाने की ओर

लेखक की कलम से :





प्रिय पाठकों ,
 नमस्ते !
' एक आशियाने की ओर ' पुस्तक के माध्यम से हम बात करेंगे रेज़िडेनशल इंटीरियर्स एवं वास्तु शास्त्र की . हर व्यक्ति का सपना होता है कि उसका अपना एक घर हो , आशियाना हो जिसमें वो खुद को सुरक्षित व खुशहाल मह्सूस कर सके. दुनिया की तमाम मुश्किलों , काम का बोझ व अन्य तकलीफों व चिंताओं से परे जब वो अपने घर पहुँचे तो  उसे सुकून व शांति का अनुभव हो . घर के भीतर एक ऐसे वातावरण का समावेश होना चाहिये जो व्यक्ति विशेष को सकारात्मक ऊर्जाओं से परिपूर्ण कर दे और व्यक्ति एक बार फिर नए जोश व उमंग के साथ अपनी ज़िंदगी में आगे बढ़ता रहे , चलता रहे.


वास्तविकता तो यह है कि हर कोई ईंट व पत्थर के बने मकानों में नहीं रहना चाहता बल्कि हर किसी को एक ऐसे आशियाने की , एक ऐसे घर की तलाश होती है जो उसके सपनों की दुनिया जैसा हो, जो व्यक्ति विशेष के जीवन को समृ्द्धिशाली व खुशहाल बनाए. आपके घर की साज - सज्जा व सुव्यवस्थित स्थिति आपकी जीवन शैली का आईना होती है. आपके घर को देखकर लोग आपके रहन - सहन का अंदाज़ा लगाते हैं. ऐसे में अपने घर को एक बेहतरीन लुक देने के लिए लोग ट्रेंड्स की होड़ में और सही राय के अभाव में अपना समय व पैसा व्यर्थ करते हैं पर फिर भी मन मुताबिक अपने घर को अपने सपनों का महल बना पाने में असंतुष्ट नज़र आते हैं.

अपनी पुस्तक एक ' आशियाने की ओर के माध्यम से हम इस विषय पर विशेष मंथन करेंगे कि किस प्रकार उचित तरीकों द्वारा अपने घर को बजट के अनुरुप एक अरामदायक व सौंदर्यपरक रुप दें.

अपने डिज़ाइनिंग कैरियर में कई वर्षों तक मैंने बतौर इंटीरियर एवं प्रोडक्ट  डिज़ायनर दिल्ली में कार्य किया जिसके अंतर्गत गृ्हनिर्माण से जुड़े कई क्षेत्र जैसे वास्तु कला, इनवायरमेंटल साइकॉलजि , प्रोडक्ट डिज़ाइन , कला , ऎनथ्रापामेट्रिक्स . एरगॉनोमिक्स , स्पेस मैनेजमेंट एवं प्लानिंग , दीवारों की सज्जा , फर्नीचर , कलर साइकॉलजि , फ्लोरिंग, फॉल्स सीलिंग , वास्तु एवं फेंगशुई जैसे विषयों पर कार्य किया .

अत: आपको पुस्तक के माध्यम से घर की आंतरिक साज- सज्जा , वास्तु शास्त्र एवं फेंगशुई की उपयोगिता, इंटीरियर स्पेस मैनेजमेंट , आधुनिक इंटीरियर्स, फॉर्मल इंटीरियर्स , फर्नीचर, एक्सेसरीज़ एवं ग्रीन डिज़ाइन आदि के संदर्भ में महत्त्वपूर्ण जानकारियाँ प्राप्त होंगी.

अपने अनुभवों व ज्ञान के मिश्रण से तैयार यह पुस्तक आपके समक्ष प्रस्तुत करते हुए एक खूबसूरत अनुभूति हो रही है जिसके लिए मैं, उन सभी लोगों को आभार प्रकट करना चाहूँगा जिन्होंने ' एक आशियाने की ओर' मेरे कदमों को दिशा प्रदान की.  विशेषत:  मैं , आभारी हूँ :-  श्री कुलदीप सिंह ( दिल्ली ) , कु. सुप्रिया श्रीवास्तव ( दिल्ली ) , श्रीमती चित्रा कुलकर्णी ( पुणे ), श्री आशुतोष अग्रवाल ( पुणे ), श्री अमन ग्रेवाल ( दिल्ली ), कु. रंजना पाठक ( दिल्ली ), श्री इंद्र नारंग ( पुणे), श्री राजीव देशमुख ( पुणे ), कु. स्नेहा देशमुख ( पुणे), श्री अनीश त्रिपाठी ( दिल्ली ), श्री प्रताप  जाधव ( पुणे ), श्रीमती अपर्णा गोडबोले ( पुणे ) एवं डॉ. पूरब मिश्र ( दिल्ली ).


पुस्तक आपके हाथों में है. दिन रात की कड़ी मेहनत के बाद ' एक आशियाने की ओर ' के सफर को संपूर्ण कर पाया हूँ पर यथार्थ में मेरी मेहनत कितनी रंग लाई है, इस पर तो आपका निर्णय ही सर्वोपरि है .

ऋषभ शुक्ल       
जनवरी , 2012.























                                                      - ऋषभ शुक्ल

copyright©2012-Present Rishabh Shukla.All rights reserved
No part of this publication may be reproduced , stored in a  retrieval system or transmitted , in any form or by any means, electronic, mechanical, photocopying, recording or otherwise, without the prior permission of the copyright owner. 
 


Copyright infringement is never intended, if I published some of your work, and you feel I didn't credited properly, or you want me to remove it, please let me know and I'll do it immediately.

Comments

  1. Interestingly written preface. congrats .Best of luck for your book . May this will become the best selling book .

    - Roshan Jain

    ReplyDelete
  2. good work Rishabh ji . keep it up .

    - Anuj Bajpai

    ReplyDelete
  3. डॉ. अर्चना12 May 2013 at 07:12

    बहुत - बहुत शुभकामनायें ऋषभ जी !
    जब शुरुआत इतनी प्रभावशाली है तो नि: संदेह आगे की पुस्तक अत्यंत रोचक होगी .
    शुभकामनाओं सहित

    डॉ. अर्चना .

    ReplyDelete
  4. Vikas Sachdeva12 May 2013 at 07:15

    very nice preface . if you can send me the pdf version of your book , then i will be highly obliged .
    congrats .

    - Vikas Sachdeva


    ReplyDelete
  5. Great presenation . very well written . topics are really interesting . congrats

    - Anupama


    ReplyDelete
  6. congratsss and best wishes dear

    ReplyDelete
  7. Hemant Rathore15 May 2013 at 06:14

    very nice preface rishabh ji .
    best of luck for the coming one .


    * Hemant Rathore

    ReplyDelete

  8. just fabulous . your way of writing is awesome .
    keep up the good work !


    -Tanya Verma

    ReplyDelete
  9. Excellent use of Words . Great job with Great Presentation .
    congrats.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वास्तु शास्त्र के टिप्स, कर दें घर को फिट

Interior Design Journalism - An Introduction

Bathroom Design